स्पर्म बैंकिंग : क्या है, कब करें, प्रक्रिया, फायदे, रिस्क, कीमत

67

स्पर्म यानी शुक्राणु पुरुषों में प्रजनन (फर्टिलिटी) सेल्स होते हैं. आपको बता दें कि अंडकोष शुक्राणु पैदा करते हैं. जब कोई पुरुष चरम सुख के दौरान स्खलन करता है, तो वीर्य निकलता है. इस वीर्य में लगभग 300 मिलियन शुक्राणु कोशिकाएं (स्पर्म सेल्स) होती हैं. लिंग से वीर्य तब निकलता है, जब आप संभोग या फिर हस्तमैथुन करते हैं. महिला को गर्भवती करने के लिए पुरुषों में शुक्राणुओं की गुणवत्ता का बेहतर होना जरूरी होता है, लेकिन कई बार कुछ मेडिकल कंडीशन या फिर बढ़ती उम्र की वजह से शुक्राणुओं की गुणवत्ता कम होने लगती है. इसकी वजह से पुरुष अपनी महिला साथी को गर्भवती करने में सक्षम नहीं हो पाते हैं. ऐसे में आजकल कई पुरुष बायोलॉजिकल बच्चा पैदा करने का विकल्प चुन रहे हैं. इसके लिए पुरुषों को अपने स्पर्म को बैंक में स्टोर करवाने की जरूरत पड़ती है. फिर जब कोई पुरुष पिता बनना चाहता है, तो इन स्पर्म का उपयोग किया जाता है. इस पूरी प्रक्रिया को स्पर्म बैंकिंग के रूप में जाना जाता है. 

आज इस लेख में आप स्पर्म बैंकिंग की प्रक्रिया, फायदे और रिस्क के बारे में विस्तार से जानेंगे –

(और पढ़ें – स्पर्म और सीमेन में अंतर)

External Content



Source link

Sponsored: