जीभ पर दाग के लक्षण, कारण, इलाज, दवा

42


जीभ पर दाग या धब्बे पड़ना आम है. इसके पीछे कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं –

काले दाग

इसमें जीभ पर काले व भूरे रंग के पैच दिखाई दे सकते हैं. पहले ये दाग छोटा हो सकता है, जो धीरे-धीरे बढ़ सकता है. यह समस्या डेड स्किन सेल्स की वजह से हो सकती है. जो लोग तंबाकू का सेवन करते हैं, उनमें यह अधिक देखने को मिल सकता है. यह समस्या उम्र बढ़ने के साथ अधिक हो सकती है. महिलाओं की तुलना में पुरुषों में यह समस्या अधिक देखने को मिलती है. इस समस्या को ठीक करने के लिए जीभ पर टूथब्रश का इस्तेमाल करें. जीभ पर टूथब्रश रगड़ने से डेड स्किन सेल्स रिमूव हो सकती है.

External Content

(और पढ़ें – जीभ में सूजन का इलाज)

ज्योग्राफिक टंग

ज्योग्राफिक टंग पर किनारे या ऊपर की तरफ से लाल धब्बे दिखाई दे सकते हैं. ये दाग या धब्बे अपना स्थान और आकार बदल सकते हैं, लेकिन ये हानि रहित होते हैं और कुछ दिनों में साफ हो जाते हैं. ज्योग्राफिक जीभ को ठीक होने में सप्ताह या महीना लग सकता है. इतना ही नहीं कुछ मामलों में यह कई वर्षों तक चल सकता है. इस स्थिति में आपको दर्द या जलन महसूस हो सकती है. ऐसे में आपको मसालेदार, नमकीन, गर्म और एसिडिक खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए.

(और पढ़ें – ल्यूकोप्लाकिया का घरेलू उपचार)

ल्यूकोप्लाकिया

ल्यूकोप्लाकिया की स्थिति में जीभ पर सफेद या भूरे दाग बन सकते हैं. यह समस्या अधिक धूम्रपान या तंबाकू चबाने से हो सकती है. आमतौर पर ल्यूकोप्लाकिया गंभीर नहीं होते, लेकिन कई बार ल्यूकोप्लाकिया कैंसर कोशिकाएं भी हो सकती हैं. इस स्थिति में डॉक्टर बायोप्सी की सलाह दे सकते हैं. इसके लक्षण मसूड़ों और गालों पर भी दिखाई दे सकते हैं.

(और पढ़ें – ग्लोसेक्टोमी का इलाज)

लाई बम्प्स

लाई बम्प्स की वजह से भी जीभ पर दाग दिखाई दे सकते हैं. इस स्थिति में जीभ पर छोटे सफेद या लाल दाग दिखाई दे सकते हैं. इसमें जीभ पर एक या अधिक दाग हो सकते हैं. लाई बम्प्स दर्दनाक हो सकते हैं. इनमें खुजली और जलन भी महसूस हो सकती है. इस समस्या का कोई ज्ञात कारण नहीं है. इसे उपचार की जरूरत भी नहीं पड़ती है, लाई बम्प्स कुछ दिनों में अपने आप साफ हो सकते हैं.

(और पढ़ें – मुंह में स्वाद न आने का इलाज)

थ्रश

थ्रश एक फंगल इंफेक्शन है, जो मुंह और गले में हो सकता है. इस स्थिति में जीभ पर दाग नजर आ सकते हैं. कभी-कभी लाल घाव और पैच भी दिखाई दे सकते हैं. शिशुओं और बुजुर्गों में थ्रश होने की आशंका अधिक होती है. साथ ही जिन लोगों की इम्यूनिटी कमजोर होती है या जो दवाई ले रहे हैं, उन्हें भी थ्रश हो सकता है.

(और पढ़ें – मुंह के छाले का इलाज)

अल्सर

जीभ पर छाले भी दाग का कारण बन सकते हैं. जीभ पर छाले कई कारणों से हो सकते हैं. इनमें शामिल हैं-

जीभ का कैंसर

जीभ का कैंसर आमतौर पर अल्सर की तरह दिखाई देता है, जो ठीक नहीं होता है. कैंसर जीभ के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकता है. जीभ के इस हिस्से को छूने से खून निकल सकता है. इस स्थिति में जीभ में दर्द, निगलने में परेशानी व गर्दन में गांठ बनना आदि लक्षण महसूस हो सकते हैं. अगर जीभ के कैंसर के लक्षण नजर आए, तो बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें.

(और पढ़ें – टॉन्सिल स्टोन का इलाज)



Source link

Sponsored: