छाती में गैस के दर्द के लक्षण, कारण, इलाज, दवा, उपचार

40


छाती में गैस के दर्द के कारण – Fuel Ache in Chest Causes in Hindi

गैस की परेशानी आमतौर पर छाती के निचले हिस्से में महसूस होती है और यह किसी विशेष खाद्य पदार्थ या दवाओं के रिएक्शन से लेकर किसी गंभीर चीज के कारण हो सकती है. कुछ लोगों में कार्बोनेटेड ड्रिंक और शराब गैस का कारण बन सकती है. इतना ही नहीं, अगर किसी व्यक्ति को किसी खाद्य-पदार्थ से एलर्जी या सेंसिटिविटी है, तो इससे भी गैस का दर्द हो सकता है. 

External Content

वहीं, कुछ लोगों में गॉलब्लैडर डिजीज या फिर सूजन की स्थिति जैसे पेट में दर्द, दस्त और कब्ज के कारण भी छाती में गैस की समस्या हो सकती है. आइए, विस्तार से जानते हैं कि छाती में गैस के कारण क्या-क्या होते हैं –

खाद्य पदार्थों के प्रति असंवेदनशीलता

छाती में गैस किसी विशेष खाद्य-पदार्थ के प्रति असंवेदनशीलता के कारण भी हो सकती है. अगर किसी को लैक्टोज इनटॉलेरेंस है, तो डेयरी प्रोडक्ट खाने से छाती में गैस बनना शुरू हो सकती है. इसी तरह, अगर किसी को सीलिएक डिजीज या ग्लूटेन से परेशानी है, तो खाने में गेहूं की थोड़ी-सी मात्रा भी छाती में गैस की समस्या उत्पन्न कर सकती है.

(और पढ़ें – गैस का दर्द कैसे दूर करें)

फूड पॉइजनिंग

खराब खाना खाने से फूड पॉइजनिंग हो सकती है, जो छाती में गैस का कारण बन सकती है. ऐसा हानिकारक बैक्टीरिया, वायरस या पैरासाइट युक्त खाना खाने के कारण होता है. इस कारण बुखार, जी मिचलाना, उल्टी, दस्त और मल में खून भी आ सकता है.

(और पढ़ें – गैस का होम्योपैथिक इलाज)

सूजन की स्थिति

छाती में गैस इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज, जैसे – अल्सरेटिव कोलाइटिस या क्रोहन डिजीज के कारण हो सकता है, जो इंटेस्टाइन में सूजन का मुख्य कारण बनता है और डाइजेशन को प्रभावित करता है. इसके अलावा, लक्षण के तौर पर पेट में दर्द, डायरिया, कब्ज, स्टूल में खून आना, वजन घटना और थकान का अनुभव हो सकता है.

(और पढ़ें – गैस बनने पर क्या खाना चाहिए)

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम एक नॉन-इंफ्लेमेटरी गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिसऑर्डर है, जो कई प्रकार के लक्षणों का कारण बनता है. ये लक्षण आमतौर पर तनाव के कारण होते हैं व खाने के बाद ये और भी खराब हो सकते हैं. इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम सीने में गैस के दर्द के साथ-साथ पेट में ऐंठन, दर्द, कब्ज और डायरिया का कारण भी बन सकता है.

(और पढ़ें – गैस बनने पर क्या करें)

गॉल-ब्लैडर डिजीज

गॉल-ब्लैडर डिजीज और गॉल स्टोन के कारण भी गैस बन सकती है और सीने में दर्द हो सकता है. ऐसा तब होता है, जब किसी मेडिकल अवस्था के कारण गॉल-ब्लैडर पूरी तरह से खाली नहीं हो पा रहा है. इस कारण से पेट में अतिरिक्त गैस बन सकती है, जिसके चलते छाती में दर्द हो सकता है.

(और पढ़ें – गैस के लिए एक्यूप्रेशर पॉइंट्स)



Source link

Sponsored: