आई यू आई क्या होता है, कैसे किया जाता है, फायदे, नुकसान, लागत

63


आई यू आई कैसे किया जाता है – IUI kaise hota hai in hindi

यह सुनिचित करने के लिए की जब आप आई यू आई उपचार ले तब अंडे उत्सर्जित हो रहे हैं आपके डॉक्टर ओव्यूलेशन किट, अल्ट्रासाउंड या रक्त परीक्षण का उपयोग कर सकते हैं।

External Content

यदि आपका मासिक धर्म चक्र नियमित है तो आमतौर पर ओव्यूलेशन 12 से 16 दिनों के बीच होता है। यदि आपको अनियमित मासिक धर्म चक्र की परेशानी है तो यह भिन्न हो सकता है।

कभी-कभी, आई यू आई से पहले ओव्यूलेशन बढ़ाने के लिए प्रजनन दवाओं का उपयोग किया जाता है। इस मामले में, योनि के अल्ट्रासाउंड स्कैन का उपयोग आपके अंडों के विकास की निगरानी करने के लिए किया जाता है। जैसे ही अंडे परिपक्व होते हैं, आपको इसके स्राव को उत्तेजित करने के लिए हार्मोन इंजेक्शन दिया जाता है।

(और पढ़े – हार्मोन चिकित्सा क्या है)

डॉक्टर आपके पुरुष साथी को यह सुझाव दे सकते हैं कि वह इस प्रक्रिया से 2 से 5 दिन पहले सेक्स न करें। इससे शुक्राणुओं की अधिक संख्या सुनिश्चित करने में मदद मिलती है।

फिर, आपके साथी को एक कप में हस्तमैथुन करके क्लिनिक में वीर्य का नमूना देने की आवश्यकता होगी। इसकी जरुरत आमतौर पर उसी दिन होती है जब आई यू आई उपचार किया जाता है।

आई यू आई के लिए स्पर्म बैंक से जमे हुए शुक्राणु का भी उपयोग किया जा सकता है, भले ही आप अकेली महिला हों, जोड़ा हो या समलैंगिक हो।

आपके लिए दान किए गए शुक्राणु का उपयोग करना एक कठिन निर्णय हो सकता है, खासतौर पर यदि आप शादीशुदा जोड़ा हैं तो इसलिए आगे बढ़ने से पहले आपको एक मनोचिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

(और पढ़े – मनोचिकित्सा क्या है)

आपके साथी से शुक्राणु लेने के बाद उन्हें तत्काल एक प्रयोगशाला में ले जाया जाता है, जहां उन्हें साफ किया जाता है। आपको एक टेबल पर सुलाया जायेगा और आपके डॉक्टर योनि के मुँह को धीरे-धीरे खोलने और आपकी गर्भाशय ग्रीवा को देखने के लिए एक स्पेक्युलम (पैप स्मीयर में इस्तेमाल किया जाने वाला टूल) का उपयोग करेंगे।

साफ शुक्राणु को एक लंबी और बहुत पतली नली का उपयोग करके गर्भाशय में रखा जाएगा। आपको इस प्रक्रिया के बाद 10 से 30 मिनट के लिए टेबल पर बैठे रहना होगा।

अधिकांश महिलाओं को इस प्रक्रिया के दौरान कोई असुविधा महसूस नहीं होती है, हालांकि कुछ महिलाओं को प्रक्रिया के बाद गर्भाशय में हल्की क्रैम्पिंग (दर्द) या योनि में रक्तस्राव का अनुभव हो सकता है।

एक बार प्रक्रिया समाप्त हो जाने के बाद, आप कपड़े पहन कर अपनी सामान्य दैनिक गतिविधियों को कर सकते हैं। प्रक्रिया के बाद आप एक या दो दिन के लिए योनि के पास हल्के दाग (स्पॉटिंग) का अनुभव कर सकते हैं।

(और पढ़ें – प्रेग्नेंट होने के लक्षण)



Source link

Sponsored: